एक अजीब कश्मकश सीने में है,कि
आखिर वो हसीं गुनाह था क्या,
मेरा तेरी गली से गुज़रना, या
तुझेपे मेरी निगाहों का ठहर जाना??

Advertisements