लो भेज दिया आज फिर अपने जज़्बातों को लिफ़ाफ़े में,
डर है, कहीं तुम इन्हें फिर से महज़ अलफ़ाज़ ना समझ बैठो।।

Advertisements