होसकता है न मुक़द्दर में हो अंजाम ऐ मोहब्बत
पर दिल लगा कर, तुझे भुला दूँ, ये मुमकिन नहीं।।

Advertisements