धुएं के पहलु में, दास्ताँ ए इतिहास नहीं लिखे जाते,

उन्हें उड़ा,  फिज़ाओ में ख़ुशबू भरना ही मंज़िल ए ज़िन्दगी है।।

Advertisements