ज़िन्दगी के सफ़र में, हर मुसाफिर की शिकायत यही,
हर तरफ वही समां, हर तरफ भरा धुआँ।

Advertisements