कुछ ख़ास नहीं, बस यही फरयाद है केवल,
तू ‘सौर’ सबकी सबके पैरों के बराबर करदे।

(inspired)

Advertisements