गलतफहमी का शिकार होगया जो, उससे और क्या तकरार करू।
चैन बना रहे उसके ज़िन्दगी का, उपरवाले से यही दरकार करूँ।।

Advertisements