धूमिल झिलमिल मन तरंग में, दिल है महसूस करता,
कोई दुनियावलों से कह दो,कल्पनाओं का नाम नहीं होता।|

Advertisements