इख़्तियार के नशे में चूर, इनायत भूल जाने वाले,
क्या तुझे ये अंदाज़ा नहीं की तख़्त-ताज नश्वर है।।

Advertisements