अज़नबी बोल कर, एक पल में बेगाना कर दिया उसने,
शुरूआती मुलाकातों में जिसने दोस्ती का ताज पहनाया था।।

Advertisements