इश्क ए दरिया में उतर कर ,अंजाम ए मोहब्बत की परवाह ना कर,
ये कोई मैदान ए जंग नहीं, जहाँ फतह ए मंजिल ज़रूरी हो।

Advertisements