फसा हुआ हूँ मैं कहीं उस समंदर के बीचों- बीच,
बस पानियों से गुज़ारिश है मुझे तैरता ही रहने दें।।

Advertisements