अर्ज़ी -ए- माफ़ी लगा दी है तेरे दर पर, सुना है
तेरे दरबार -ए- दिल में कायनात समां जाती है।

Advertisements