क़सूर दुनिया का नहीं, जो ग़लत समझ गई।
हम ही मैख़ाने में, पानी पीने बैठे थे ।।

Advertisements