अल्फ़ाज़ों के कहाँ मोहताज़ हैं,लव्ज़-ए-जज़बात ये,
झाँक कर मेरी आँखों में,उन बेचैनियों को मुझे दे दो।।

Advertisements