कहना तो चाहता हूँ तुमसे, बहुत कुछ मैं, मगर
कभी तम्हारा पता नहीं, तो कभी अल्फ़ाज़ों का।।

Advertisements