मशहूल बैठ रहूँ तेरी यादों में सपने सजाये,
कैसा हो कि पलके झपके, तू झम से आ जाए||

Advertisements