क़ुर्बान हो जाऊँ खिदमत में तेरी,
दरिया से हमने ये हुनर सीखा है,
लूटा कर तुझपे अपना पानी,ख़ुद
खारे को गले लगा रखा है।

Advertisements