केह देता इन परिंदों से, ख़त मेरा भी पंहुचा दें,
पर अफसोस, कि मंज़िल के पते से अनजान हूँ।।

Advertisements