जालसाज़ी इस कदर है दुनिया में,
शक़ में ईमानदारी ही आई है,
जज़बात सजा भी दूँ मैं अल्फ़ाज़ों से,
अब तो उनपे एतबार पे बन आई है।

Advertisements