साथ छूटा जो छूटा, पर एक चीज़ और कुछ गज़ब की हुई।
फ़िक्र में रहता था कभी जहाँ, बेख़ौफ़ जिया करता हूँ उन्ही गलियों में आजकल।।

Advertisements