इश्क़ की किताब के, खाली जो छोड़ आये,
तरसते रहे जो स्याही को, वो पन्नें कुछ अपने थे।।

Advertisements