समझ पाया तब, उस चाँद का यूँ शर्मा के छिप जाना,
जब आखों की चमक में डूबने से, तेरी मुस्कान ने बचा लिया।।

Advertisements