मुस्कुरा देता हूॅ यूॅ ही बैठे बैठे अकसर,
लोगों को तुझसे, मन की गफ्तगू का राज़ क्या पता।।

Advertisements