हर रोज़ ज़िक्र आता है तेरा, मेरे ख्वाबों में, फिर
हर पल तुझसे रूबरू होने की ख्वाहिश जगती है।

Advertisements