उङते हुए उस परिन्दे की खलिश क्या पूछनी,
उसके तो पर और दिल दोनों जलते होंगे।।

Advertisements