मुद्दतों से लगातार उसके जवाब का इंतज़ार करता रहा,
फिर कहती है एक दिन बेबाक होकर, ‘मुझे तवज्जो तो देदो’ ।।

Advertisements