आखिरी अंजाम का इंतज़ार तो हर उस उड़ते परिंदे को है,
तू अपना फ़साना सुना ए राही, तेरे इस हाल-ए-दिल की वजह क्या है।।

Advertisements