ज़िन्दगी की नाव को खेते मांझी, इश्क़ का रूख़ तो कर ले,
बहते हुए यूहीं दरिया में, कहीं अकेले मसान न पहुच जाऊं।

Advertisements