मिज़ाज़-ए-मौसुम और दिल दोनों एक से हैं आजकल,
कमबख्त दोनों को भीग जाने की ही आस है।।

Advertisements