उम्मीद में हर वक़्त तुमसे मुलाकात की,
पलके बिछाये इंतज़ार की आदत हो गई।

Advertisements