आज फिर दिन बीत गया तम्हारे संग ख्वाबों में जीते,
बात कुछ और ही होती, अगर तुम खुद साथ होते।।

Advertisements