क्या अजीब सिलसिला है तेरी मेरी गुफ्तगू का,
तुझे फर्क नहीं पड़ता, मेरी इल्तजा नहीं मिटती।।

Advertisements