ये कैसी सजा मिली है तुमसे दिल लगाने की,
एक हम हैं जिसे करार नहीं आता, एक तुम हो जिसे खबर ही नहीं।।

Advertisements