मोहब्बत तो बना दी ऐ ख़ुदा, इसकी सरहदें भी बना दी होती,
दूर निकल न आता इतनी, मैं कुछ तो अपनी हद में रहता।।

Advertisements